सूर्योदय भास्कर, लखनऊ। लखनऊ नगर निगम सदन की बैठक की शुरुआत गुरुवार को वंदे मातरम से करने की महापौर ने घोषणा की तो सपा पार्षदों ने इसका विरोध शुरू कर दिया। सपा के सैयद यावर हुसैन रेशू ने कहा कि आज से पहले कभी भी वंदे मातरम से सदन की बैठक नहीं शुरू हुई। फिर आज क्यों ऐसा किया जा रहा है। परंपरा तोड़ी जा रही है। कांग्रेस के मुकेश सिंह चौहान ने कहा की वंदे मातरम तथा राष्ट्रगान दोनों होना चाहिए। महापौर ने कहा की शुरुआत वंदे मातरम तथा समापन राष्ट्रगान से किया जाएगा।

महापौर ने विधानसभा तथा लोकसभा का भी हवाला दिया और कहा कि इन दोनों सदनों की शुरुआत भी वंदे मातरम से होती है। इसी वजह से नगर निगम सदन में भी अब इसकी शुरुआत वंदे मातरम से की जा रही है। भाजपा पार्षदों ने भारत माता की जय के नारे लगाए। सपा पार्षद शांत रहे। मेयर ने कहा कि समापन पर राष्ट्रगान किया जाएगा।

दरअसल, लखनऊ नगर निगम सदन की गुरुवार को होने वाली इस बैठक में चालू वित्तीय वर्ष का पुनरीक्षित बजट पास होगा। इस वित्तीय वर्ष में नगर निगम 538 करोड़ की आय का लक्ष्य प्रस्तावित किया है। नगर निगम कार्यकारिणी की बैठक पिछले महीने हुई थी। जिसमें पुनरीक्षित बजट पास हुआ। अब इसे सदन से पास कराया जाना है। सदन में बजट को लेकर चर्चा होगी। सदन अगर चाहेगा तो कार्यकारिणी से पास बजट में संशोधन होगा। इस वित्तीय वर्ष के मूल बजट में सड़कों के लिए केवल 70 करोड़ का प्रावधान था।

2091.07 करोड़ खर्च होगा

लखनऊ नगर निगम ने प्रस्तावित पुनरीक्षित बजट में आय, व्यय में वृद्धि की है। चालू वित्तीय वर्ष के पुनरीक्षित बजट में उसने 2091.59 करोड़ रुपए की आय का लक्ष्य है। इसके सापेक्ष वह 2091.07 करोड़ रुपए खर्च करेगा। मूल बजट में 1777.34 करोड़ रुपए की आय प्रावधानित की गई थी। व्यय में 1775.96 करोड़ रुपए का प्रावधान था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here