अपने हुनर को निखारने में जुटे नौनिहाल

यूथ इण्डिया संवाददाता, फर्रुखाबाद। कलासाहित्य एवं संस्कृति को समर्पित अखिल भारतीय संस्था संस्कार भारती की ग्रीष्मकालीन कला एवं सांस्कृतिक कार्यशाला में योग का योग हो गया तो संस्कारों के साथ संस्था जीवन पद्धति के नियम भी सिखाती नजर आई। इस बार ग्रीष्मकालीन कार्यशाला में संस्कार भारती की नई टीम प्रांतीय महामंत्री सुरेन्द्र पाण्डेय एवं अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों के निर्देशन में काफी कुछ नया कर रही है।

अध्यक्ष डॉ० नवनीत गुप्ता, सचिव दिलीप कश्यप कलमकार व उनकी टीम ने कार्यशाला को यादगार बनाने के लिये ताकत झोंक रखी है। कार्यशाला संयोजक संस्था के प्रयासों में चार चाँद लगाने में जुटी हैं। इस बार की कार्यशाला में भू अलंकरण रंगोली का विशिष्ट प्रशिक्षण के बाद अब योग का प्रशिक्षण नई विधा के रूप में शामिल हो गया। सफलता की ओर एक और कदम बढ़ाते हुए कार्यशाला के जिम्मेदारों की मेहनत और क्रियाशीलता बराबर अपनी खुशबू बिखेर रही है।

निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार बुधवार को सुबह हुए प्रशिक्षण में सभी विधाओं के प्रशिक्षण के साथ ही कार्यशाला में अपने हुनर को निखार रहे नन्ने कलाकारों को योग का प्रशिक्षण देने का क्रम शुरु हो गया। योग प्रशिक्षका अर्चना द्विवेदी ने बच्चों को योग के गुर समझाए व बेसिक जानकारी दी। उन्होंने योग से होने वाले लाभों पर चर्चा भी की और स्वयं योग करके बच्चों को योग की प्राथमिक पाठशाला में प्रवेश देने का काम किया।

संस्था की वरिष्ठ सदस्य रजनी लौंगवानी, हेमलता श्रीवास्तव, साधना श्रीवास्तव ने बच्चों को योग का प्रशिक्षण दिया। इस बार कार्यशाला में पदाधिकारियों की मेहनत के चलते बच्चों की तादाद भी पिछले वर्षों की कार्यशालाओं की अपेक्षा अधिक है। इसके साथ ही संस्था के जिम्मेदार सदस्य बराबर कार्यशाला में पहुँचकर अपना योगदान दे रहे हैं। दिवसाधिकारी वरिष्ठ कवि दिनेश अवस्थी व उनके साथियों ने समय कार्यक्रम को सुचारू रूप से संपन्न कराया।

बताते चलें कि विगत 18 मई से सरस्वती शिशु मंदिर में संस्कार भारती की ग्रीष्मकालीन कार्यशाला चल रही है। जिसमें बच्चे गर्मियों की छुट्टी का सदुपयोग करके अपने हुनर को निखारकर स्वावलंबी बनने का प्रशिक्षण ले रहे हैं। आज हुए प्रशिक्षण कार्यक्रम में विशेष रूप से सचिव दिलीप कश्यप कलमकार, अर्पण शाक्य, अरविंद दीक्षित, डॉ० राकेश गंगवार, डॉ० रविन्द्र यादव, नेहा सक्सेना, प्रियासाधना, हेमलता, कोमल शर्मा, दीपक रंजन सक्सेना, डॉ० सर्वेश श्रीवास्तव, संजय गर्ग सहित संस्था के जिम्मेदारों का विशेष सहयोग रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here